Forgetful

share_-202634544.jpg
How good is they say
to have a memory good
For one remember things
Which no one could

And still I find
Forgetfulness, A vice
the greatest virtue
remained unsung otherwise

And How much I pray
to be forgetful once again
When I can again be free
of this seething pain

Daily I wake up
with a pledge in my heart
that by the evening
I ‘d forget the part

The Part of life
or Life of the part
I forget to forget
Despite I try hard

Advertisements

तेरे प्यार पर अब भी है इख्तियार उनका 💕

लबों पर आती थी बिन बुलाए मुस्कुराहट
जो महफ़िल में ज़िक्र होता था उनका

उन सोखियो -ए – तबस्सुम के मरासिम क्या बताएँ
दिन अच्छा गुज़रता, गर दीदार होता था उनका

बिछड़ना उनका हमारा कोई नई बात नहीं
पास लाके दूर जाना दस्तूर है उनका

ज़ोर-ए-आज़माइश बखूबी कर रहे हैं वो
दिल गोया पत्थर हो गया हो उनका

हिचकियाँ कुछ कम हो गयी हैं
नये शहर में शायद मन लग गया उनका

गैर हो गये हैं आज वो इस कदर
कासिद से हाल मालूम होता है अब उनका

तकल्लूफ और ना कर, “मुंतशीर” अब तू
क्या यह कम है तेरे प्यार पर अब भी है इख्तियार उनका

~”मुंतशीर”

A brilliant writeup Prankies

  • Kya baat hai👌👌
    Your poem perfectly conveys how a complaining heart can remain satisfied❤️

    Keep scribbling

    Yours loving warrior
    Naina

No..Yes..No..Yes!

“I love you” he said

“You know I won’t say yes

Why all this then” she replied out of surprise

“Aee pagal I was joking” He then replied with a cunning smile

“Hehe then ok you idiot”

Both of them laughed and continued their chit chat.

Few days later when their friendship got more intense…

One evening she made a phonecall

“Hi listen I love u

I don’t know why

But I do….I want to be with you more” She confessed

“Listen….I can’t say yes…There are other priorities I have…Now stop all this and concentrate on better purposes of life” he replied.

“Why so rude…huhh…Ok let’s be bffs” she said and kept the phone.

After 1 year of bff bonding …

Phone rang.. at 12 pm

“Hey!!Happy bday dear” said the boy.

…I want to confess something and that is I love you…I still cannot promise a future but for now please be mine??

He waited for the reply.

After few seconds of pause she replied

“Hm I want to say yes…But I fear…Can I take some time to answer”

Annoyed he then said

“Huhh I thought you will be happy…I guess you also wanted this to happen..Therefore I chose your bday..huhh”

And then she said

“Hmm Yes but”

Then he interrupted

“Ok no problem..Don’t get stressed.. let’s be bffs that’s best” he said

“Hm”she replied again

And after a month…A message popped in his phone

“Hey

Is the offer still valid???”

It was her message.

“Which offer?”

“That day what you said on my bday”

“Hehe …. ofcourse that offer has no expiry date….You can take more time ….Only there is no guarantee of future”

“Hm”

“Ok listen

I love you too”

She finally confessed

And there was happy smiles from both sides

❤️🤗❤️🤗

No…Yes..No…And the final yes!

Because sometimes proposals don’t always end so soon.

Happy propose day everyone.

Hope you enjoyed this writeup.

Go propose your love again this valentine and see how intresting reply you get !😆😁

Happy reading!

Yours loving warrior

Naina

Uncomforting Control

And that voice said “Control”

But how can one control?

When life itself is uncontrollable

Though I agree.. priorities do hold

Control is uncomforting

Life emotions and love

are all difficult to control

But if you have ordered

I will try…this uncomforting control

But the day I conquer your soul

And you finish conquering your world

I will loose it for sure

Uncontrolled me will conquer you all.

Tick..Tick 🖤

Distance of time and space

And these “unplanned extended….” interval😬

And those “no replies” of yours

Makes me hate you for a while

And then like the “comma”in a sentence…I smile,

And that too with enough patience and style

As I know this is just a pause

and not full stop

Only slower is our life clock

But yes tick…tick…

Till then I can wait and hop

I just wish

Some of your precious time

I could shop 👿😄

बसंती हवा

बसंती हवा हवा हूँ, हवा मैं बसंती हवा हूँ।

    सुनो बात मेरी -     अनोखी हवा हूँ।     बड़ी बावली हूँ,     बड़ी मस्त्मौला।     नहीं कुछ फिकर है,     बड़ी ही निडर हूँ।     जिधर चाहती हूँ,     उधर घूमती हूँ,     मुसाफिर अजब हूँ।

न घर-बार मेरा, न उद्देश्य मेरा, न इच्छा किसी की, न आशा किसी की, न प्रेमी न दुश्मन, जिधर चाहती हूँ उधर घूमती हूँ। हवा हूँ, हवा मैं बसंती हवा हूँ!

    जहाँ से चली मैं     जहाँ को गई मैं -     शहर, गाँव, बस्ती,     नदी, रेत, निर्जन,     हरे खेत, पोखर,     झुलाती चली मैं।     झुमाती चली मैं!     हवा हूँ, हवा मै     बसंती हवा हूँ।

चढ़ी पेड़ महुआ, थपाथप मचाया; गिरी धम्म से फिर, चढ़ी आम ऊपर, उसे भी झकोरा, किया कान में ‘कू’, उतरकर भगी मैं, हरे खेत पहुँची – वहाँ, गेंहुँओं में लहर खूब मारी।

    पहर दो पहर क्या,     अनेकों पहर तक     इसी में रही मैं!     खड़ी देख अलसी     लिए शीश कलसी,     मुझे खूब सूझी -     हिलाया-झुलाया     गिरी पर न कलसी!     इसी हार को पा,     हिलाई न सरसों,     झुलाई न सरसों,     हवा हूँ, हवा मैं     बसंती हवा हूँ!

मुझे देखते ही अरहरी लजाई, मनाया-बनाया, न मानी, न मानी; उसे भी न छोड़ा – पथिक आ रहा था, उसी पर ढकेला; हँसी ज़ोर से मैं, हँसी सब दिशाएँ, हँसे लहलहाते हरे खेत सारे, हँसी चमचमाती भरी धूप प्यारी; बसंती हवा में हँसी सृष्टि सारी! हवा हूँ, हवा मैं बसंती हवा हूँ! – केदारनाथ अग्रवाल Presenting this beautiful poem describing the jovial nature of spring season feeding us with the vigourous energy to stand and face the world again with zeal and motivation Happy Basant Panchami

What did I see in you?

I saw a smiling me in your eyes

I saw a happy me 

with you in thick and thin

You were such a lovely spice

I saw a responsibly dedicated you saying me “Always wait for a right time”

I saw a cunningly flirty you saying me “it’s ok let’s not think too much and enjoy for a while”

I have seen a healing me 

in your magical talks

Dedication, Perfection and affection

Is all what I saw😗✌

Happy reading!

Yours loving warrior

Naina

मेरा पहला प्यार।

लड़कपन कि वो पहली- पहली याद है,

मेरा वो पहला पहला प्यार है।
मेरी पहली तो नही पर हाॅ एक ताजी सी याद है,
वो कुछ और नही मेरे पहले प्यार कि शुरूआत है।

उस वक्त मैहज 14-15 साल कि छोटी बच्ची ही थी मै,
प्यार क्या है वो बस फिल्मो मे ही देखा करती थी मै ,
पर फिर भी मूझे ना जाने कैसे तूझसे इक्करार होने लगा था।

हालाकी ये तेरी -मेरी उन अन्नगीन्त मुलाकातो जैसी ही एक मुलाकात थी,
पर उस दिन शायद तेरी जरूरत मूझे कुछ जादा ही थी।

तब से तूझे मैने मेरी जिन्दगी में थोडा जादा ही मिल लिया है,
क्योकी तेरी महक मैं मेरी हर परेशानी को दूर करने का राज़ छुवा रखा है।

शायद उस वक़्त लोगो के पास टाइम काम था,
इसीलिए मैंने तुझे अपने लिए चुन लिया था।

याद है मुझे मैं कैसे तुझसे चुप चुप कर मिला करती थी,
कही और नही तुझे अपने रूम में ही छुवा कर रखा करती थी।
आज तो इस कदर बेशर्म बन चुकी हूं,
की तुझे सारे आम ही अपने लबो से मिला लिया करती हूं।

किसी को मेरी कहानी मैं कह दिलचसबी हुआ करती थी,
तू ही तो है वो जिसे मैं अपने हर राज़ बोलै करती थी।

ठंड हो या गर्मी का मूसम तुझे पकड़ने के बाद सुखोन मिलता है,
आज भी तुझे पाकर मन खुशी से झूम उठता है।

अब तो मम्मी भी बहुत बार बोल दिया करती है,
किसी और को भी देखा कर अपनाया कर,
अरे पगली
अपने दांतों का तो धयान दिया कर ,
चॉकलेट ज़्यादा न खाया कर।

पर क्या करूँ तू है ही इतनी मिट्टी और प्यारी ,
की तुझसे दूर रहने का मन ही नही मानता है,
तुझे बिना पाए मुझे अब चैन नही आता है।
इसीलिए तुझे अब खरीदने की जगह ,
बनाने मे ज़्यादा मज़ा आता है।

                    –नेहा असावा

Invisible

How much I love you 

How do I define

In your invisible face 

I am still searching your smile

In your invisible hands

I still want to feel the warmth

In your invisible eyes

I still find my future and past

In your invisible soul

Lies my heart

Come back if you can

I miss you so hard

In your invisible soul

Lies my visibility 

Lies my spark.

Happy reading !

Yours loving warrior

Naina