खोज

खो गई हूँ कहीं कश्मकश में

ज़िंदगी की इस भगदड़ में

क्या सोचा था और क्या हो चली हूँ

किसी और के संग जीवन गढ़ने में

कभी लगता है सब अच्छा है

फिर एहसास होता है कि दिल तो अब भी बच्चा है

कैसे निकलूँ इस झूठी दलदल से

कभी कभी लगता है सब कुछ सच्चा सा है

Illusion or Reality!

Both are part of life.

Indeed a very relatable situation for lot of our readers. Thanks for writing.

Well scribbled Virus.

Happy reading readers

Yours loving

Warrior

भ्रम में बिताया हुआ जमाना

आज फिर से खोज रही हूँ ख़ुद को

समय दे रही हूँ अपनी कलम को

ज़िन्दगी की कश्मकश में भटक गई थी

फिर से गढ़ रही हूँ उस अधूरे ख्वाब को

झूठी हँसी के चलते दिल से मुस्कुराना भूल गई थी

सब की भावनाओं को समजते खुद की आशाएँ भूल गई थी

बनना चाहती थी कभी मैं भी इंजीनियर डॉक्टर

पर ,घर की चार दिवारी में क़ैद हो कर रह गई थी

ऐसा नहीं है कि कुछ पाया नहीं

पर जो खोया वो दिल से गया नहीं

लम्हे बहुत से आये हँसने मुस्कुराने के

पर वो टेस दिल से कभी कम हुई नहीं

जी करता था तोड़ दूँ इन रस्मो को

जी करता था छोड़ दूँ कसमो को

घोट दूँ गला इन बेड़ियों का

और काट दूँ इन झूठे जंजालों को

फिर याद आती है माँ की वो बात

इस घर से डोली आई है उस घर से अर्थी आएगी

और फिर सुबह उठ जाती हूँ झूठी मुस्कराहट के साथ

जब देखूं पीछे तो एक सुना सा रास्ता दीखता है

अंधेरी गलियों में ना कोई अपना लगता है

एक अरसा लंबा सफर ही था गुज़रा

जो किसी भ्रम में बिताया हुआ जमाना लगता है

Two of your lines touched my heart

ऐसा नहीं है कि कुछ पाया नहीं

पर जो खोया वो दिल से गया नहीं

These two lines summarises everything in this writeup

Brilliant

Welcome back miki

एक अरसा लंबा सफर ही था गुज़रा

जो किसी भ्रम में बिताया हुआ जमाना लगता है

Vaise dekha jaye to aaj bhi ek bhram hi hai

Kal bhi bhram hi tha

Aur Kal bhi bhram hi rahega

Bas jis pal ko dil se jee liya tumne shayad vahi hakeekat hoga❤

Luv u virus miki

Happy reading readers

Yours loving warrior

Naina

विचार …

लबों पे हँसी और आँखों में नमी है

हर पल ख़ल रही तुम्हरी कमी है

ना जाने कैसे इम्तिहां की घड़ी है

ना सर पे आसमान ना पैरों के नीचे ज़मी है

अब किस मोड़ पर हूँ मैं

समय को रोक लूँ इस सोच में हूँ मैं

जी कर रहा है ख़ुदा से लड़ लू

हर पल हिम्मत खो रही हूँ मैं

एक तो रास्ता दिखा दो मुझे

जाना कहा है ये रास्ता बता दो मुझे

आँखे हैं झिलमिल और मार्ग में धुंद्ध है

एक आशा की किरण तो दिखा दो मुझे

After one year of engagement…

आज जब ज़िन्दगी के एक साल पलट कर देखी तो पाया …

एक पुराना सा घर जिससे पानी टपकने लगा , शायद वो भी मुझे याद करने लगा

कुछ पुराने लोग जो मुस्कुरा कर जाने लगे , शायद वो भी मुझे भुलाने लगे

वही पुराने रास्ते आज मेरी हँसी उड़ने लगे , शायद वो भी मुझे अंजान समझने लगे

कुछ पुराने दोस्त हाथ मिला कर आगे बढ़ने लगे , शायद वो भी मुझे पराया समझने लगे

माँ मेरे लिए ट्रे में पानी का ग्लास रख कर लाने लगी, शायद उसी पल से वो मुझे मेहमान मानने लगी

घर की वस्तुएं भी अब हाथों में आना बंद कर दी , शायद वो भी मुझे बहार का समझने लगी

पूरी आलमारी में कभी कब्ज़ा था जहाँ , आज एक बैग में सब सिमट जाने लगा …

एक ही पल में सारा संसार बदल जाने लगा

Missing home friends msti fun

Add more lines if you can and share express your self

Thanks & Regards

Virus_Miki

माँ तुम बहुत याद आती हो…

आँखों के किनारे पर आ कर यूँ ही ठहर सी जाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

सुबह का अलार्म और रात की लोरी बन जाती हो , माँ तुम बहुत याद आती हो

सर में दर्द हो तो मरहम और दिल में दर्द हो तो दुआ बन जाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

नींद ना आने पर सिराहना और बीमार पड़ने पर डॉक्टर बन जाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

तनहा रहू तो दोस्त, परेशान रहू तो सलाहकार बन जाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

समझ ना आए तो टीचर और गलती करने पर सब से बचाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

जादू की तरह एक पल में सब ठीक कर जाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

क्यों कर दिया मुझे खुद से इतना दूर की आँखे खुलते ही तुम ओझल सी हो जाती हो, माँ तुम बहुत याद आती हो

अब तो बस पलके भीगा कर होठों पर मुस्कान छोड़ जाती हो, माँ ….तुम बहुत याद आती हो….

Add some more lines in this… I don’t have much of words

Thanks & Regards

Virus_miki

कलम से…

एक बेधड़क सी लड़की डर कर जीने लगी

खाना तो क्या साँसे भी पूछ कर लेने लगी

शिखर पर पहुँच कर फिर शून्य पर आ गई

सुनी गलियों को अब वो यूँ ही निहारने लगी

समझ नहीं आ रहा कि उसे ऐसे बंधन में क्यों बाँध दिया

समाज के डर से उसके माता पिता ने उससे उसका बचपन छीन लिया

अपनी इच्छाओं को मार कर आज उसने भी जीना सीख लिया

समय के साथ आज उसने आँसू पीना भी सीख लिया

एक किनारे में बैठ कर घर को याद करना भी सीख लिया

तस्वीरों को देख कर ही मुस्कुराना सीख लिया

आज सोच रही है अगर उसकी माँ, भाभी बहन सब ने यही सहा

फिर क्यों उसे इस कड़वी सच्चाई से रखा क्यों जुदा

दहेज़ की बलि चढ़े या इच्छओं की , मारना तो है ही

क्यों उसे झूठे सपने दिखा कर इस शादी के प्रलोभन में फसा दिया

चुप रहना, कमरे में रहना उसकी फितरत में नहीं था

उसे हसना , बोलना और गुनगुनाना पसन्द था

आज घर की चौखट से पैर बहार नहीं रख सकती वो

जिसे हर रोज़ बहार आना जाना पसंद था

सब का ख़याल रखना सब कहते है , उसके खयाल की किसी को याद नहीं आती

सब की पसंद का ध्यान है उसे पर अपनी पसंद वो किसी को बता नहीं पाती

एक बोलने पर वो सब का कर देती पर उसका सुनने वाला कोई नहीं है

कहती रहती है महीने भर पहले से वो , तब भी उसकी इच्छाएँ पूरी नहीं हो पाती

पति के हिसाब से खुद को बदलो

घर के हिसाब से मन को बदलो

सब की उम्मीदों को पूरा करो

अपनी इच्छाओं को दफ़न करो

सब से मिल कर रहो

धीरे कहो ज़ोर से ना हँसो

बड़ो से बात भी मत करो

शर्म और लिहाज का लबादा ओढ़े रहो

मुस्कुराने का झूठा ढोंग चालू रखो

दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करो

Do let me know your views about marriage .

And correct me wherever I am wrong..☺☺☺👍

Thanks & Regards

Virus_miki

रिवाज़…

बिंदास घुमने वाली लड़की आज एक पिन लाने के लिए भी किसी की मोहताज हैं

क्या ऐसा ही तुम्हारा समाज है

शादी नहीं ये एक बेकार सा रिवाज़ है

हर कोई उसके दिल को छल जाता है

और पूरा परिवार जश्न मनाता है

नकली सी मुस्कराहट ले कर उसका मन भी घबराता है

तुम दूसरे घर से आई हो , हर पल इस बात का एहसास दिलाता है

एक आँगन रोता है और उसी पल दूसरा आँगन ख़ुशियाँ मनाता है

ना जाने कैसा रिवाज़ है ये शादी का
जहाँ दो परिवार ना एक होता हैं और ना ही अलग कहलता है

After a long break

Back with this….Many more to say but, unable to collect the words…!!!

Let me know.. what else you can add in this… And correct me if I am wrong…☺☺

Thanks & Regards

Virus_miki

राष्ट्र रक्षा सूत्र…

भारतीय सेना 10 सर्वश्रेष्ठ अनमोल वचन: अवश्य पढें।
इन्हें पढकर सच्चे गर्व की अनुभूति होती है…

1.

मैं तिरंगा फहराकर वापस आऊंगा या फिर तिरंगे में लिपटकर आऊंगा, लेकिन मैं वापस अवश्य आऊंगा।

  • कैप्टन विक्रम बत्रा, परम वीर चक्र

2.

जो आपके लिए जीवनभर का असाधारण रोमांच है, वो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी है।

  • लेह-लद्दाख राजमार्ग पर साइनबोर्ड (भारतीय सेना)

3.

यदि अपना शौर्य सिद्ध करने से पूर्व मेरी मृत्यु आ जाए तो ये मेरी कसम है कि मैं मृत्यु को ही मार डालूँगा।

  • कैप्टन मनोज कुमार पाण्डे,परम वीर चक्र, 1/11 गोरखा राइफल्स

4.

हमारा झण्डा इसलिए नहीं फहराता कि हवा चल रही होती है, ये हर उस जवान की आखिरी साँस से फहराता है जो इसकी रक्षा में अपने प्राणों का उत्सर्ग कर देता है।

  • भारतीय सेना

5.

हमें पाने के लिए आपको अवश्य ही अच्छा होना होगा, हमें पकडने के लिए आपको तीव्र होना होगा, किन्तु हमें जीतने के लिए आपको अवश्य ही बच्चा होना होगा।

  • भारतीय सेना

6.

ईश्वर हमारे दुश्मनों पर दया करे, क्योंकि हम तो करेंगे नहीं।”

  • भारतीय सेना

7.

हमारा जीना हमारा संयोग है, हमारा प्यार हमारी पसंद है, हमारा मारना हमारा व्यवसाय है।

  • अॉफीसर्स ट्रेनिंग अकादमी, चेन्नई

8.

यदि कोई व्यक्ति कहे कि उसे मृत्यु का भय नहीं है तो वह या तो झूठ बोल रहा होगा या फिर वो इंडियन आर्मी का  ही होगा।

  • फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ

9.

आतंकवादियों को माफ करना ईश्वर का काम है, लेकिन उनकी ईश्वर से मुलाकात करवाना हमारा काम है।

  • भारतीय सेना
    10.

इसका हमें अफसोस है कि अपने देश को देने के लिए हमारे पास केवल एक ही जीवन है।

  • अॉफीसर प्रेम रामचंदान

।।जयहिंद……

वो भी क्या वक़्त था 

जब 17 और 19 प्यार का नहीं शादी का दौर था
चालीस बरास पहले हुई थी बिदाई, 

एक नन्ही सी कलि हुई थी पराई, 

बेटी को विदा कर खुश कौन होता है

फिर भी अंगना में गूंज रही थी शहनाई

जाते जाते माँ ने एक बात थी बताई

सुनते ही आँखे हो गई नम और होंठो में हँसी थी आई

कि बेटा जो मिले उसमे काट लेना तू

थोड़ी खुशियां थोड़े आँसू बॉट लेना तू

भूल पर सब की मिट्टी दाल देना तू

हमेशा अपने पास मिठी यादें ही रखना तू

सुन के उसका दिल घबराया

ये सब कैसे होगा विचार आया

उसी वक़्त पिया ने हाथ बढ़ाया

पिया का हाथ थाम उसने कदम बढ़ाया

नए घर में प्रवेष हुआ

बेटी से बहू का सफर तय हुआ

साथ रहने पे प्यार प्रगाढ़ हुआ

माँ बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ

 जिम्मेदारी बढ़ी परिवार बढ़ा

रसमें निभाते समय बीतता गया

देखो इस सफर का कितना सुन्दर अंजाम हुआ

चालीसवे वर्षगाँठ में पूरा परिवार एक साथ है खड़ा 

                                     -virus_miki

Meetings….

A handsome boy and a cute girl

For them, Falling in love was a pearl

Meeting each other was destiny but

After, love their life get curl
In busy schedule of daily routine

Talking to each other become caffeine

Phones and video calls was only source

As in long distance meeting each other was a dream
Whenever they make plan of meeting

Always their fate came in between

With a settled business {of boy} and good profile job{of girl}

All their beautiful moments confined in 6 inches screen
A formal family meeting and moments they share

Sitting besides each other many formalities they care

A mingle feeling of happiness and sadness was thr
As that moment for two love birds was very unfare
Surrounding with lot of people they calmly walk

Among huge crowd,They just wanna a small talk

Looking for each other their eyes strike and block

Soon heart become board and eyes converted to chalk