Dussehra

रावण की मात है, दशहरे की रात है,
पाप पुण्य की बात है, क्या सच में राम कोई साथ है?

Advertisements

सोचना पड़ा !

सोचना पड़ा उसे भी, मुझे भी सोचना पड़ा,
सोचना पड़ा उसे उस पिता के लिए जो उम्र की दहलीज पर था,
सोचना पड़ा उस माँ के लिए जिसने उसके लिए कुछ सपने बुने थे,
सोचना पड़ा उस परिवार के लिए जिसकी उम्मीदें थी उससे,
सोचना पड़ा उसके लिए जिसका कर्ज था उस पर, जिसका बोझ बहोत भारी था !
और मुझे ? मुझे उसके लिए सोचना पड़ा !

After a long time…read something so deep…like as a reader I can feel the depth and intensity💬

Warm welcome to our scribbling place Nishabd💟!

And to your writing… I would liketo share my thoughts..

Rishte..maa papa family…

bandhan ka naam hai ? ya uddne wale pankh support aur aazadi ka?

Na jane Soch aur dil kyu band jati h?

Na Jane kyu aansu aur mushkan saath ho jati hain?

Khusi b hoti h

Santushti satisfaction bhi

Adhoori si zindagi hai puri bhi

Well written Mr. new author 💞

Keep scribbling Nishabd🖌

Happy reading readers

Yours loving

WARRIOR🧚‍♀️