The Authors I Love

Books have always been my sacred sanctuary where I often found refuge from the drudgeries of the sapping lifestyle. Though I started reading young, I was never a 'Fan" Sort of person who'd drool over some author and would devour all of their novels, rather I was more of a "Whatever I get hands upon, … Continue reading The Authors I Love

With trust, these fingers entwine Warmth in touch they do find Firmness, with which, together they hold The essence of each other's soul Language, they have, of their own To others, which is quite unknown! With touch, they communicate Alas! Now they have to wait Hope! For one day they’d meet Will hug each other … Continue reading

मेरी कामत के चर्चे शहर के हर कूचे में थे मकाँ, हमसे किसी के ऊँचे ना थे था ग़ुरूर हमको भी अपनी ज़रा नावाज़ी का अंज़ूमन में होते हैं चर्चे कहना था ख़बरसाजी का हुआ कुछ यूँ था उस दिन महफ़िल सजी एक ख़ास थी अंदर रंगिनिया थी और बाहर क़यामत-ए-बारिश की रात थी जुगलबंदी … Continue reading

मेरी कामत के चर्चे शहर के हर कूचे में थे मकाँ, हमसे किसी के ऊँचे ना थे था ग़ुरूर हमको भी अपनी ज़रा नावाज़ी का अंज़ूमन में होते हैं चर्चे कहना था ख़बरसाजी का हुआ कुछ यूँ था उस दिन महफ़िल सजी एक ख़ास थी अंदर रंगिनिया थी और बाहर क़यामत-ए-बारिश की रात थी जुगलबंदी … Continue reading

Yet the solace it finds!

You never know what Brews in a teenage mind The one which is agitated And trying to unwind To express and then Not to find words And the raised lumps Chocking vocal chords The rainbows of hope Peeping through misty eyes And to steal a glance To your face it often pries And shudders my … Continue reading Yet the solace it finds!

वो दस रुपय का नोट भी फड़फड़ाता है ख़र्च होने नख़रे दिखाता है ठेले पर देख गुपचुप ललचाता है देख कोई ऑटो वो चिल्लाता है मिलों चल संग मेरे फिर सकुचाता है फटी जेब में अपना वजूद छिपाता है छन्द पंक्तियों में बिखरा में वो नोट आज भी फड़फड़ाता है