Apne lag jaate hain kabhi kabhi

एक  सबकहम  ऊँचे  नहींऊँचा है  रबकब किस से मिला जाता  हैरिश्ते मीठे बना जाता हैपता  नहीं हर मुलाकात के  शायद मतलब  नहीं होते  हैं ज़ज्बात, मुस्कुराहट,आंखें और  चेहरे की चमक... कहाँ कहती हैं सचझूठ भी  नहीं कहती  हैं वैसे बस कुछ चीजें 'अपनी' हैंऔर  कुछ 'अपनी है  ही  नहीं'.बस गलती  से  अपनी  लग जाती  है  … Continue reading Apne lag jaate hain kabhi kabhi