संस्कार


जब बात उठी संस्कारों की कि काँग्रैस पार्टी मौजूदा अध्यक्ष को हटाए और गैर गाँधी को अध्यक्ष बनाए

तो किसी ने संस्कारों का आईना (दर्पण) रख दिया सामने जिसमें हमारे साहब के भी संस्कारों का पता चलता है।

भारतीय जनता पार्टी के भीष्म पितामह कहे जाने वाले आडवाणी जी का किस प्रकार से अपमान किया हमारे साहब ने, ये तो जगजाहिर है न । आडवाणी जी को “हमारे साहब” का राजनीतिक जनक भी माना जाता है, जिन्होंने पहले भी गोधरा काण्ड के वक्त साहब की कुर्सी बचाई थी गुजरात के मुख्यमंत्री पद की ।

एक सभा में (मिज़ोरम में, विप्लब देव के मुख्यमंत्री पद के शपथग्रहण समारोह में) साहब के राजनीतिक जनक व गुरु, साहब के सामने हाथ जोड़कर अभिवादन करते दिखे, साहब देखकर भी, बिना उसे स्वीकार करते आगे बढ़ गए। ऐसा एक बार नहीं, तीन बार हुआ, जो उनके संस्कारों की ओर इंगित करता है

अपने बुज़ुर्गों का यूँ अपमान,

क्या है साहब ये, अहंकार..??

या संस्कार या कुछ और….??

नहीं है इनका पारावार…

गर समझते ये राष्ट्र को अपना परिवार,

तो छोड़ के सब वैर तकरार,

खाते नहीं किसी से खार,

और बुज़ुर्गों को भी देते प्यार…

One can easily search it on Google or on You Tube by searching “Adwani insulted by Modi.”

लो जी अब तो पी. चिदम्बरम (पूर्व वित्त मंत्री) ने तंज भी कस दिया साहब की स्मरणशक्ति पर, और 15 गैर गाँधी नाम भी गिनवा दिये…

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s