आसरा इक तेरा


तेरा इक आसरा होवे तो

सहारे ही सहारे हैं

तेरे इश्क में दम निकले

गुज़ारे ही गुज़ारे हैं…

 

#वो नैया डूब नहीं सकती

कि जिसका तू मल्लाह होवे

उसे तो मझधार अन्दर भी

किनारे ही किनारे हैं…

!!मेरे गोपाल !!

श्री गोपाल जी (ईश्वर) को समर्पित

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s