मुलाक़ात


निगाहो से होती थी वैसे तो गुफ़्तगू

कैसे करें हाल-ए-बयाँ झुकी हों पलकें अगर

इब्तिदा -ए – इश्क़ मे जो उड़ते थे अर्श पर

इंतिहा में वो मिले फर्श पर अक्सर

उस मर्ज़ का इलाज़ नहीं मौज़ूद
तबीब ही देने वाला हो जिसका आज़ार गर

भेजा था मज़मून कासिद से यूँ तो

अशकों से धुल गया रह गया लिफ़ाफ भर

वादा किया था कि आएँगे ख़्वाबों में

ख़ुशी से हमें नींद आयी ना रात भर

अंजुमन में टकराए यूँ तो चश्म औ दिल

सदियों में बीती घड़ी -ए – मुलाक़ात भर

चाहतें तो बहुत सी थी ‘मुंतशीर’ लेकिन

क्या करें, हो ना पाएँ कामिल हालात गर

  • मुंतशीर

Notes :इब्तिदा -ए – इश्क़ = Beginning of loveतबीब = Doctorआज़ार: sufferings from the diseaseमज़मून : Letterकासिद:messenger

Well मुंतशीर is more talented than Prankies !

Great job dear

क्या करें, हो ना पाएँ कामिल हालात गर

I can now better understand this phrase…It was tougher to understand last year♠️

Happy reading readers..You will experience paradise if you could relate♥️

Keep smiling everyone

Yours loving warrior

Naina

Advertisements

5 thoughts on “मुलाक़ात

  1. Thanks Naina for your wonderful comments, however it is still too early to say whether Muntashir is better than me or not :). Let’s see how he progress .

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s