कुछ गुस्ताखियां


कुछ गुस्ताखियां बस हो गई

करनी तो नही थी

दिल तुम्हारा दुखा

पर हमने जानबूझ के

की तो नही थी

कुछ मनमानियां

कुछ दिल की फरमाइशें

दीमग की उधेड़ बिन

नादान थी

कुछ गुस्ताखियां

शैतानी नहीं

हालातो का परिणाम थी

दिल में तुम हरदम ही खास रहे

रोज़ाना बात हो न हो

तुम ज़ज़्बातों में हरदम साथ रहे

जो हो गया

सुधार पाना मुमकिन नहीं

भुला दो ना

क्या ये भी इतना मुश्किल है

विश्वास कर लो दोबारा

गुस्ताख़ दिल नादान है

You never intended but you ended up hurting your best friend…

If you have ever faced this situation with a loved one…You can totally relate to my writings!

Happy reading

Have a peaceful night

Yours loving warrior

Naina

Advertisements

2 thoughts on “कुछ गुस्ताखियां

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s