Dear 2018

Dear 2018, I have listed few points(read: resolutions) below,you better keep track of these, 1.Make sure that with the change in calendar I don't change my priorities. Because what I started last year will continue with even more will power and determination. 2.Start sleeping early instead of thinking about my dream so that I can … Continue reading Dear 2018

Phenomenal fingers

Your long hands And those thin long fingers  The way you use those to  Explain me things Are phenomenal beings Because they start phenomenon of  Trust between us and probably initiate desires in my mind To hold them strongly  and make them mine Those long fingers of yours  And my shorter fingers May be..... they … Continue reading Phenomenal fingers

Mirza Ghalib

हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे कहते हैं की ग़ालिब का अंदाज़ ए बयान और This post in third in series of articles about the Great poets of our country, whose poems shaped my outlook of life early on. Today I take upon the one of the most revered name in Urdu and … Continue reading Mirza Ghalib

Papa..you inspire me

कहानी कहानीकार से बनी  या कहानीकार बना कहानी से अम्बिकावाणी गोपाल से बनी  या गोपाल बने अम्बिकावणी से आसमान तारो से है या तारे आसमान से मुस्कुराहट चेहरे पर है या चहरे की सुंदरता है मुस्कान से दोनो एक ही हैं या दोनो एक दूजे की पहचान हैं बयां शब्दों में मुश्किल है,ये ऐसी प्रेरणात्मक दास्तान … Continue reading Papa..you inspire me

फिर आज याद आए तुम

देखा जब बदलियों में छुपा सा चाँद कनखियों से निहारते नज़र आए तुम आज फिर याद आए तुम बीते बसंत कितने, कितनी बीतीं रातें सपनो से निकल ना पाएँ तुम आज फिर याद आए तुम ........ बाग़ में बैठा जाकर भूलने तुझे कली -ए-गुलाब में नज़र आए तुम आज फिर याद आए तुम .... भीगे … Continue reading फिर आज याद आए तुम