अनहोनी में भी निडरता है,उप्परवाला इसलिए अनहोनी करता है


देखा जाए तो अनहोनी है,तभी तो निडरता है

जो होता है अच्छे के लिए ही होता है

डरता वो है जो नए काम करने से डरता है

रोता भी वही है जो सब कुछ खोने से डरता है

जो नई मंज़िले पाने की हिम्मत राखता है

वो कहां अनहोनी से डरता है

वो तो फिर भी अकड़ के यही रटता है

जो होता है अच्छे के लिए ही होता है

कभी समय बुरा तो कभी अच्छा होता है

जो सुख दुख दोनो में ही हँसता रहता है

वो कहाँ अनहोनियों से डरता है

ये तो प्रकृति का नियम है 

जो सोचा नहीं कभी वो ही तो हरदम होता है

फिर किस लिए भला इंसान 

अनहोनियों से डरता है

सोच बड़ी होती है जिसकी 

आंखे खुली होती है जिसकी

वो कहाँ अनहोनियों से डरता है

वो तो बुरा में भी अच्छा खोज ही लेता है

उप्पर वाला भी तो निडरता सिखाने के लिए

डर से तुम्हे वाकिफ़ करता है

जो खोने से कोई डरता है

उप्पर वाला हरदम वही छीनता है

ताकि निडरता सिख सके हम

ऐसा इसीलिये भगवान करता है

वाकई जो होता है अच्छे के लिए ही होता है

Happy reading 

Yours loving warrior

Naina

Advertisements

9 thoughts on “अनहोनी में भी निडरता है,उप्परवाला इसलिए अनहोनी करता है

  1. सोच बड़ी होती है जिसकी 

    आंखे खुली होती है जिसकी

    वो कहाँ अनहोनियों से डरता है

    Anhoni nahi hoti… Bs smj kaa fer hota hai…

    Liked by 1 person

  2. Whatever happen it happens for a reason and always happen with a reason….!!

    My views are bit different… Jo hota hai uske piche koi karan zaroor hota hai… And anhoni ni hoti hai… !! Kuch galtiyon ki wjh se wo anhoni lgti hai… As you said

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s