बेटियाँ 


Inspired from this image i received in whatsap 

This image does not need any explanation as it is sufficient in it self… Still i tried to express my views for this….!!!

मैं थी बिज छोटा सा, मुझे सींचा आपने ।

नन्ही सी कलि थी, फूल बनाया आपने ।

कोमल पंखुड़ियों को सहला कर, हिफाज़त की आपने।

जड़ो को पानी दे कर संजोये रखा आपने ।

खाद भी डाली समय पर, मुरझाने कभी नहीं दिया आपने ।

आंधी तूफ़ान में साथ खड़े रहे और लड़ने का इनाम दिया आपने ।

(A sudden change in my life. Now I will be called a wife)

क्यों मुझे किसी और को सौंप कर, अपना नाम किसी और को दे रहें है ।

खुद से दूर कर के आप क्यों एक ख़ुशी सी महसूस कर रहें है ।

ऐसा करते हुए कह रहे की आप रीत निभा रहे हैं ।

बिदाई देते वक़्त फिर क्यों आप अश्क़ बहा रहें है ।

(At last i have only this to say,.. please don’t let me go.. Allow me to stay)

नहीं जा सकती मैं  कहीं भी, आप दोनों को  छोड़ कर 

रख लो ना अपने पास मुझे ऐसे ही किसी कोने पर ।

“From the bottom of my heart”
                                         ~virus_miki

Picture and the lines too heart touching leaves me speechless…

Happy reading readers

Yours loving warrior

Naina

Advertisements

2 thoughts on “बेटियाँ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s