रिश्तेदारी और  दोस्ती में कैसा मान अपमान ? says Gulzar


…A lovely poem from Gulzar…

कुछ हँस के

     बोल दिया करो,

कुछ हँस के 

      टाल दिया करो,

यूँ तो बहुत 

    परेशानियां है 

तुमको भी 

     मुझको भी,

मगर कुछ फैंसले 

     वक्त पे डाल दिया करो,

न जाने कल कोई 

    हंसाने वाला मिले न मिले..

इसलिये आज ही 

      हसरत निकाल लिया करो !!

 समझौता 

      करना सीखिए..

क्योंकि थोड़ा सा  

      झुक जाना 

 किसी रिश्ते को

         हमेशा के लिए 

तोड़ देने से 

           बहुत बेहतर है ।।।

किसी के साथ

     हँसते-हँसते

 उतने ही हक से 

      रूठना भी आना चाहिए !

अपनो की आँख का

     पानी धीरे से 

पोंछना आना चाहिए !

      रिश्तेदारी और 

 दोस्ती में 

    कैसा मान अपमान ?

बस अपनों के  

     दिल मे रहना 

आना चाहिए…!

                            – गुलज़ार😊

After a long compiling something awesome to our blog!

HAPPY READING!

yours loving warrior

NAINA

Advertisements

2 thoughts on “रिश्तेदारी और  दोस्ती में कैसा मान अपमान ? says Gulzar

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s