Ethreal Amour

The rustle of leaves
Beneath the weight
Seeping sunlight
Through trees dissect

The moans of winds
Can be heard
Pheromones strong
Are all wide spread

Enveloped in arms
Drenched in dew
Like sky n Gaia
Maketh love , Very few

Advertisements

The touch was just a slight

In that Brumal wintery night

They acted in their deep sleep

From warmth, away, they couldn’t keep

And soon they entwined

And in one they combined

Sharing warmth and care

Two hands now slept together

A step ahead

It was so peaceful like it never was before

It was so warmer like it never was before

It was so soothing like your nerves on my heart rolled

It feels so ‘filled’ and satisfied

Like a rainbow dressed in shinny white

To the heights of his excitement and satisfaction

The hero of my sky shinnned bright

My heart says this hero is made for this loveliest sky

The wings of my dreams have been strengthened more

May be..this is our near forever

I wish it happens soon

My heart is roaring and screaming

like it has never done before..

Much is yet to be conquered

But definitely

it was a step ahead for sure….

These memories are to stay forever

And will never go!

Every step of this journey

Is equally beautiful

Lets just be with this flow!

Thank you 💓 Love

Happy reading readers

Yours loving warrior

NAINA

एक रिश्ता ऐसा भी

मैं दिसंबर

और

तू जनवरी. .

ये रिश्ता बेहद नज़दीक का

और

दूरी… पूरे साल भर की

Behad khubsurat rishta Behad khusbsurat expression ashushudha!

Afterall Love is infinity💓

Happy reading readers

Yours loving warrior

Naina

Peela Peetal (Qki Har peeli cheez sona nahi hoti)

Peetal kabhi sona nahi ban sakta

Gadha kabhi ghoda nai ban sakta

Jhoot se chahe kitni safai de do

Hakikat karmo se dikhti hain

Chaplusi Chalbaazi

Mehnat ke aage kahan tikti hai

Naseeb kharab baad mein hote hain

Pehle karam kismat chunte hain

Dusro ke ghar todne walo ko

Khuda bhi kahan chunte hain!

Happy reading!

Yours loving warrior

Naina

जाने क्या मन ढूंढ रहा

खुलती हुई कलियों में ,
उन भूली बिसरी गलियों में
ओस की उन बूंदों में
उचटती अकेली नींदों में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

उड़ते हुए परिंदो में
पर्वत के रिन्दों में
सागर की उठती लहरों में
उजड़े हुए शहरों में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

नदियों की होती कलकल में
सन्नाटे के हर पल में
जीवन की भागम भाग में
मधुर संगीत के राग में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

बिखरी हुई किताबों में
अनकहे अल्फाज़ो में
कुछ अधूरे किस्सो में
टूटे दिल के हिस्सों में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

सोच

आज लोगों को ये हुआ क्या है,

क्यूँ हो रही है इनकी ऐसी सोच

जैसे हों ये किसी चोट से ग्रसित

या हो जैसे ये कोई बड़ी मोच…

 

ये सब स्पष्ट कहने में

नहीं मुझे कोई संकोच

आज लोगों को हुआ क्या है

क्यूँ हो रही है इनकी ये सोच।।

 

स्वार्थ का रख के बड़ा सा पेट

दिखा रहे बस छोटी सी चोंच।

आज लोगों को ये हुआ क्या है

क्यूँ हो चली है आज इनकी ऐसी सोच।।

 

आज लोगों को जाने ये हुआ क्या है

क्यूँ हो चली है स्वार्थी वाली सोच,

हो चले हैं सभी चोट से ग्रसित

या जैसे हो ये कोई बड़ी मोच।।

कहानी ( माँ )

असम्भव  है  माँ

तेरे  किरदार  की  कहानी  लिखना,

जैसे  पानी  पे  हो

पानी  से  पानी  लिखना।।

 

आसाँ  है  शक्लो सूरत  से

तेरी  तरह  दिखना,

पर  असम्भव  है  माँ

तेरी  कहानी  लिखना।।

 

तू  है  माँ  भरपूर  गुणों  से

हूँ  मैं  इक  घड़ा  चिकना,

असंभव  है  माँ

तेरे  किरदार  की  कहानी  लिखना…

मिज़ोरम राज्य विधान सभा चुनाव

मिज़ोरम राज्य, जो की भारत का एक पूर्वोत्तर राज्य है, का विधान सभा चुनाव 28 नवम्बर 2018 को मध्य प्रदेश के साथ ही एक चरण में सम्पन्न हो गया।

यहाँ मतदान हुआ 75% पार, जो सराहनीय है ।

गिनती 11दिसंबर को होनी है।

गौरतलब है कि 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने थे, अभी तक 3 राज्यों में चुनाव संपन्न हो चुके हैं, 2 राज्यों में होने बाकी हैं।।

छत्तीसगढ़ 12 और 20 नवंबर

मध्य प्रदेश(म.प्र.), 28 नवंबर

मिज़ोरम राज्य , 28 नवम्बर

राजस्थान राज्य , 7 दिसम्बर

तेलंगाना राज्य , 7 दिसम्बर

सभी के नतीजे आयेंगे 11दिसम्बर को…