जाने क्या मन ढूंढ रहा

खुलती हुई कलियों में ,
उन भूली बिसरी गलियों में
ओस की उन बूंदों में
उचटती अकेली नींदों में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

उड़ते हुए परिंदो में
पर्वत के रिन्दों में
सागर की उठती लहरों में
उजड़े हुए शहरों में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

नदियों की होती कलकल में
सन्नाटे के हर पल में
जीवन की भागम भाग में
मधुर संगीत के राग में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

बिखरी हुई किताबों में
अनकहे अल्फाज़ो में
कुछ अधूरे किस्सो में
टूटे दिल के हिस्सों में

जाने क्या मन ढूंढ रहा

Advertisements

सोच

आज लोगों को ये हुआ क्या है,

क्यूँ हो रही है इनकी ऐसी सोच

जैसे हों ये किसी चोट से ग्रसित

या हो जैसे ये कोई बड़ी मोच…

 

ये सब स्पष्ट कहने में

नहीं मुझे कोई संकोच

आज लोगों को हुआ क्या है

क्यूँ हो रही है इनकी ये सोच।।

 

स्वार्थ का रख के बड़ा सा पेट

दिखा रहे बस छोटी सी चोंच।

आज लोगों को ये हुआ क्या है

क्यूँ हो चली है आज इनकी ऐसी सोच।।

 

आज लोगों को जाने ये हुआ क्या है

क्यूँ हो चली है स्वार्थी वाली सोच,

हो चले हैं सभी चोट से ग्रसित

या जैसे हो ये कोई बड़ी मोच।।

कहानी ( माँ )

असम्भव  है  माँ

तेरे  किरदार  की  कहानी  लिखना,

जैसे  पानी  पे  हो

पानी  से  पानी  लिखना।।

 

आसाँ  है  शक्लो सूरत  से

तेरी  तरह  दिखना,

पर  असम्भव  है  माँ

तेरी  कहानी  लिखना।।

 

तू  है  माँ  भरपूर  गुणों  से

हूँ  मैं  इक  घड़ा  चिकना,

असंभव  है  माँ

तेरे  किरदार  की  कहानी  लिखना…

मिज़ोरम राज्य विधान सभा चुनाव

मिज़ोरम राज्य, जो की भारत का एक पूर्वोत्तर राज्य है, का विधान सभा चुनाव 28 नवम्बर 2018 को मध्य प्रदेश के साथ ही एक चरण में सम्पन्न हो गया।

यहाँ मतदान हुआ 75% पार, जो सराहनीय है ।

गिनती 11दिसंबर को होनी है।

गौरतलब है कि 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने थे, अभी तक 3 राज्यों में चुनाव संपन्न हो चुके हैं, 2 राज्यों में होने बाकी हैं।।

छत्तीसगढ़ 12 और 20 नवंबर

मध्य प्रदेश(म.प्र.), 28 नवंबर

मिज़ोरम राज्य , 28 नवम्बर

राजस्थान राज्य , 7 दिसम्बर

तेलंगाना राज्य , 7 दिसम्बर

सभी के नतीजे आयेंगे 11दिसम्बर को…

मध्य प्रदेश चुनाव

28.11.2018 को मध्य प्रदेश का चुनाव एक ही चरण में समपन्न हुआ।

खास बात ये रही कि चुनाव पूरी तरह से शान्तिपूर्ण रहा।

मतदान का प्रतिशत भी 75 के करीब रहा।

इस 75% को दोनों ही दल अपने लिए सकारात्मक मान रहे हैं। सत्तारूढ़ दल इसे अपने लिए जनता का प्यार बता रहा है तो विपक्ष इसे सत्ताविरोधी लहर और सत्तापक्ष के लिए ये जनता का गुस्सा बता रहा है।

खैर देखते हैं कि इस बढ़े हुए मतदान का वास्तविक अर्थ क्या है, गिनती 11 दिसम्बर को है। इस दिन सब स्पष्ट हो जाएगा।

अहंकार

अहंकार एक ऐसी दीमक है

जो खा जाती है सद्बुध को।।

वो तैर कर भी डूब गये

जिन्हें ख़ुद पर गुमान था

वो डूब कर भी तर गये

मेरे मालिक

जिन पर तू मेहरबान था…।।

अहंकार

अहंकार एक ऐसी दीमक है

जो खा जाती है सद्बुध को।।

वो तैर कर भी डूब गये

जिन्हें ख़ुद पर गुमान था

वो डूब कर भी तर गये

मेरे मालिक

जिन पर तू मेहरबान था…।।

Koi to Tair ke bhi doob gaya

Aur koi doob ke bhi tar gaya

Perfectly said✔👍ashushudha!

Happy reading readers

Yours loving warrior

Naina

राजनीति का स्तर

आज राजनीति का स्तर कितना गिर चला है कि एक ने वर्तमान रुपये की स्थिति की तुलना साहब की माताश्री की आयु (उम्र) से कर दी, तो दूजा इस बात का चुनावी लाभ उठाने को आतुर है।।

साहब कहते हैं कि जब ये लोग ऐसे नहीं निपट सके, तो अब माँ को गाली दे रहे हैं। बहरहाल किसी ने गाली तो किसी को नहीं दी,

हाँ , किसी ऐसे व्यक्ति या उसके परिवार की भारतीय मुद्रा रुपये से तुलना करना एक बहुत बड़ी गलती है, क्योंकि इन साहब ने तो अर्थव्यवस्था को पतन और अधोगति का रास्ता दिखाया है।।

अब देखने वाली बात ये है कि ऐसे चुनावी स्टंट करके फिर कितने मासूमों को साधने में सफल होते हैं। होते भी हैं या नहीं…।।

रहमत

जाने कौन है ये अन्दर मेरे

मुझे सम्भाल रहा जो हर बार है

के बेकरार होने के बावजूद भी

बन्दा (ऐ मालिक) तेरा बरकरार है . . .

Barkar bekarar💓✔

Nice writeup ashushudha

Happy reading readers

Yours loving warrior

Naina